जब चीन डोकलाम में कब्जा कर रहा था, तब सरकार सो रही थी : कांग्रेस

कांग्रेस ने पीएम मोदी व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज पर देश को गुमराह करने का आरोप लगाया.

कांग्रेस ने डोकलाम पर चीनी सैनिकों के कब्जे को लेकर गुरुवार को पीएम नरेंद्र मोदी व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज पर देश को गुमराह करने का आरोप लगाया. विपक्षी पार्टी ने कहा कि मोदी सरकार ने देश की सुरक्षा व रणनीतिक हितों के साथ समझौता कर लिया है.

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने मीडिया से कहा, “सैटेलाइट तस्वीरों व मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन ने भारतीय सीमा के निकट डोकलाम में मिलिट्री बेस बनाए हैं, जो इशारा करते हैं कि भारत की सुरक्षा व रणनीतिक हितों से समझौता किया गया है.”

सुरजेवाला ने कहा, “सैटेलाइट तस्वीरों से लगता है कि जब चीनी सैनिक डोकलाम में कब्जा कर रहे थे, तब सरकार सो रही थी. ऐसा लगता है कि चीन भारतीय सीमा के निकट डोकलाम जैसी स्थिति दोबारा बनाने की योजना बना रहा है.”

मज़ाकिया अंदाज में कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा, “प्रधानमंत्री को चुनावी भाषण की कला में महारत हासिल है, जबकि वह हमारी सीमाओं की सुरक्षा करने में वह बुरी तरह से विफल हुए हैं.”

सैटेलाइट तस्वीरों को दिखाते हुए सुरजेवाला ने कहा कि चीन ने दो मंजिला वॉच टावर, सात हैलीपैड व कई मिलिट्री कंस्ट्रक्शन डोकलाम में किए हैं.

उन्होंने कहा, “चीन ने पूरे डोकलाम पर कब्जा कर लिया है, हमारे देश की सरकार क्या कर रही है? क्या सरकार, प्रधानमंत्री और रक्षामंत्री को इन निर्माणों के बारे में पता है?”

सुषमा स्वराज की आलोचना करते हुए सुरजेवाला ने कहा कि विदेश मंत्रालय ने अगस्त में एक बयान जारी किया था, जिसमें कहा गया कि दोनों देशों के सैनिक तेजी से पीछे हट रहे हैं.

उन्होंने कहा, “यहां तक कि सुषमा स्वराज जी ने यह संसद में कहा, और जब हमने विवरण के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि दोनों देशों के सैनिक अपनी चौकियों को लौट रहे हैं. इस बिंदु पर उस वक्त उनके बयान पर सवाल उठाने का कोई कारण नहीं था.”

उन्होंने कहा कि डोकलाम के तनाव को हल किए जाने के बाद चीन के विदेश मंत्री ने कहा था कि उसने सैनिकों को हटा लिया है, लेकिन वह इलाके में गश्त जारी रखेगा.

कांग्रेस नेता ने सरकार से जानना चाहा कि डोकलाम तिराहे के मुद्दे पर भविष्य में निर्णय कैसे होगा, जब चीन ने पूरे डोकलाम पर कब्जा कर लिया है.

सुरजेवाला ने कहा, “मोदी जी ने अक्टूबर में एक सार्वजनिक सभा में घोषणा की थी कि डोकलाम मुद्दे का हल हमारे लिए जीत की तरह है.”

हालांकि, मीडिया में जारी उपग्रह चित्रों से पता चलता है कि चीन ने वहां अपने सैन्य प्रतिष्ठान का निर्माण कर लिया है और सड़कें भी बना ली हैं.

उन्होंने कहा कि 2014 के लोकसभा चुनाव से पहले मोदी ने कांग्रेस पार्टी पर कई आक्षेप किए थे और चीन को आंख दिखाने की जरूरत बताई थी. अब वह सत्ता में हैं, चीन को आंख दिखाने के बजाय समझौता क्यों कर रहे हैं.

उन्होंने कहा, “अब तक वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर चीन के साथ टकराव की संख्या बीते साल 48 फीसदी बढ़ी है.”

उन्होंने कहा, “चीनी सैनिकों द्वारा 2017 में एलएसी पर 415 बार भारतीय तरफ अतिक्रमण किया गया है. यह 2016 में 271 बार था.”

उन्होंने कहा, “मोदी की चुनावी रैलियों में भाषण में इसकी बारे में कुछ नहीं कहा गया.”

भारत व चीन के जवान बीते साल तीन महीने से ज्यादा समय तक डोकलाम में आमने-सामने डटे रहे थे.

पाकिस्तान सीमा पर संघर्ष विराम उल्लंघन की संख्या बढ़ने और सीमा पार गोलीबारी में भारतीय सैनिकों के लगातार शहीद होते चले जाने का जिक्र करने पर कांग्रेस नेता ने कहा, “यहां तक कि भारत के सेना प्रमुख बिपिन रावत कहते हैं कि सैनिक सीमाओं की रक्षा कर रहे हैं और वे शहीद हो रहे हैं.”

उन्होंने कहा, “रावत कहते हैं कि सेना अपना काम कर रही है, लेकिन उनसे यह भी पूछिए कि अंतरराष्ट्रीय सीमा पर घुसपैठ रोकने के लिए राजनीतिक हस्तक्षेप कब होगा.”

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close